व्यापारिक बैंक किसे कहते है (What is Commercial Bank)?

0

व्यापारिक बैंक क्या है (Commercial bank kya hai in Hindi)?:-दोस्तों बैंक हमारी ज़िदंगी में एक अहम भूमिका निभाते है,आप अपनी पूरी जमा पूंजी बिना डरे बैंक में जमा करवा सकते है। बैंक क्या है इस बात को आप सभी अच्छी तरह जानते है। लेकिन क्या आपको पता है कि बैंक कई प्रकार के होते है जिसमें से एक है Vyaparik बैंक। यह संगठनों,और व्यापार को मजबूत करने के लिए होते है।

पर क्या आप जानते है कि Commercial यानी व्यापारिक बैंक क्या है? ज्यादातर लोग नहीं जानते होंगे कि Commercial बैंक क्या है,और यह किस कार्य में आता है,या इसके फायदे और नुकसान क्या है।यदि आप इन सभी सवालों के जवाब चाहते है तो यह लेख आपके लिए ही है।हम आपको आज इस Blog में व्यापारिक बैंक से जुड़ी जानकारी देंगे, की कौन कौन से बैंक Commercial होते है, व्यापारिक बैंक के क्या फायदे है, यह किस कार्य में आते है आदि।

व्यापारिक बैंक क्या है? (Commercial bank Kya hota Hai in hindi)

अनुक्रम(Sequence):- देखें

व्यापारिक बैंक वह बैंक होते है को मुख्य रूप से व्यापारियों, Company, business और उधमियों को Loan देते है। जो लोग अपना खुद का Business शुरू करना चाहते है, वह व्यापारिक बैंक से Loan लेकर व्यवसाय शुरू कर सकते है।

Commercial बैंको का Control बैंकिंग नियमन अधिनियम करता है। Commercial बैंक लगभग सामान्य बैंक की तरह ही कार्य करता है। इसमें आप पैसा जमा करवा सकते है, Loan ले सकते है, हर प्रकार की Financial advice (वित्तीय सलाह) आदि ले सकते है।

Also Read(इसे भी पढ़े):-

व्यापारिक बैंक किसे कहते है (What is Commercial Bank)?

व्यापारिक बैंक के क्या कार्य है? (Commercial bank ke kya kam hai in Hindi?

व्यापारिक बैंक तीन प्रकार से कार्य करता है।

1 मुख्य कार्य

2 एजेंसी कार्य

3 अन्य कार्य

1: मुख्य कार्य (zaruri kaam) व्यावसायिक बैंक के मुख्य कार्य।

व्यापारिक बैंक के मुख्य कार्य इस प्रकार है:

जमा स्वीकार करना (Paise jama Karna)

व्यापारिक बैंक बस इन्हीं खातो से पैसे करती है, यानी आप केवल इन्हीं खातों से पैसा जमा करवा सकते है।

  • बचत खाते से (Saving account)
  • चालू खाते से (Transaction account)
  • सावधि खाते से (Fix deposit account)
  • आवर्ती खाते से (Recurring account)

ऋण देना (Loan Dena)

व्यापारिक बैंक चार प्रकार से जनता को ऋण देता है।

  • नगद ऋण (cash देकर)
  • अधिविकर्ष ( Account में डाल कर)
  • शिक्षा ऋण और आवास ऋण ( Study और Home loan)

2: गौन  कार्य (Hidden Work) व्यावसायिक बैंक के गौन कार्य।

व्यवपरिक बैंक 6 प्रकार गौन (छिपे हुए काम) करता है।

  • ग्राहकों के पक्ष में भुगतान करना (Customer के Side से पैसे देना)
  • अभिगोपन कार्य (छिपे हुए काम)
  • ग्राहकों के पक्ष से भुगतान स्वीकार करना (accept payment on behalf of customers)
  • प्रतिभूतियों को खरीदना और बेचना (Securities को खरीदना और बेचना)
  • धन हस्तांतरित करना (Money transfer)
  • संरक्षक के रूप में कार्य करना (Work as a custodian)
  • वित्तीय सलाह देना ( पैसों से जुड़ी advice देना)

3: व्यावसायिक बैंक के सहायक कार्य (Helping work)

  • संपत्ति को गिरवी रखना (Property गिरवी रखना)
  • दान स्वीकार करना (Donation स्वीकार करना)
  • सामाजिक काम करना (Social work करना)
  • बैंकिंग आंकड़ों को प्रदर्शित करना (Display banking data)
  • परीक्षण कार्य (Test work)
  • साख पत्र उपलब्ध करवाना (Provide letter of credit)
  • विदेशी मुद्रा का देसी मुद्रा में परिवर्तन करना (विदेश के पैसों को भारतीय पैसों में बदलना)

व्यापारिक बैंको का महत्व (Commercial bank ka mahatva in Hindi)

व्यापारिक बैंक के महत्व इस प्रकार है।

  • साख निर्माण करना।
  • व्यवसाय को बढ़ावा देना।
  • पूंजी का निर्माण करना।
  • बचत की आदत में विकास करना।
  • ग्राहकों को वित्तीय सलाह देना।
  • जीवनस्तर को बेहतर बनाना।

बचत की आदत में विकास करना (Paise बचाने की आदत को बढ़ाना)

बैंको का मुख्य कार्य है जनता से जमा स्वीकार करना। बैंक जनता को धन का लाभ प्रदान करता है, और उनके पैसो पर उन्हें उचित ब्याज भी प्रदान करते है। यदि किसी को पैसों की जरूरत है तो बैंक उन्हें ऋण भी प्रदान करता है। लोग अपना पैसा बैंक में जमा करवाते है और इस प्रकार बचत में विकास होता है।

मूलधन (पूंजी) निर्माण करना (Business को शुरू करने के लिए लगाए जाने वाले पैसे पूंजी कहलाते है)

सभी लोग अपनी ज़िंदगी भर की कमाई को बचत के उद्देश्य से बैंक में जमा करवाते है। जो थोड़े समय बाद जमा होते होते कोष (Fund) के रूप में Collect हो जाता है। आप उसी Fund (कोष) को अपनी जरूरतों के अनुसार Use में ला सकते है। यदि आप एक नया Business शुरू करना चाहते है तो आप Business निर्माण में पूंजी का इस्तेमाल कर सकते है।

साख निर्माण करना (भरोसा banana)

बैंक मुख्य रूप से ग्राहकों का पैसा बैंक में जमा करते है, और जरूरत पड़ने पर Loan प्रदान करते है। यही कारण है कि लोग बैंको पर बहुत अधिक Trust करते है, यही Trust (विश्वास) साख कहलाता है।

व्यवसाय को बढ़ावा देना।

हर Business को शुरू करने के लिए धन की जरूरत पड़ती है। लोग व्यवसाय को शुरू करने के लिए धन जरूरतों को पूरा करने के लिए निम्न तरीके अपनाते है। उन तरीको में से एक है Loan, बैंक आपको उचित ब्याज दर पर उधार पैसे प्रदान करता है।

ग्राहकों को वित्तीय सलाह प्रदान करना।

इस समय में व्यवसाय को चलाने के लिए धन के साथ साथ सही सलाह की भी जरूरत पड़ती है, की आपको अपना पैसा कहां और कैसे लगाना चाहिए। यह सलाह आपको बाजार में अधिक समय तक टिकने में मदद करती है। व्यापारिक बैंक मुख्य रूप से वित्तीय सलाह प्रदान करते है जिससे देश में आर्थिक रूप से विकास होता है।

जीवनस्तर को बेहतर बनाना। (रहन सहन को सही बनाना)

बैंक कई प्रकार से लोगो के जीवनस्तर को बेहतर बनाते है। बैंक नई नई शाखाएं खोलते है जिससे लोगो को आसानी होती है। किसानों के लिए सरकार कई प्रकार के Loan के Offer लाती है, यह Loan किसानों की खेती से संबंधित जरूरतों को पूरा करते है, यदि किसान लोन चुकाने में आसमर्थ है तो सरकार उनके उधारी को माफ करती है इससे किसानों के गरीबी स्तर में सुधार होता है।

बैंक सरकार के निर्देश के अनुसार देश के युवाओं को शिक्षा Loan उपलब्ध करवाती है, जिससे युवाओं के जीवन और देश की आर्थिक स्थिति में विकास होता है।

व्यापारिक बैंको के प्रकार? (Commercial bank prakar in Hindi)

व्यापारिक बैंको को चार प्रकार में विभाजित किया गया है, जो कि इस प्रकार है:

  • सार्वजनिक क्षेत्र में बैंक।
  • विदेशी बैंक।
  • निजी क्षेत्र में बैंक।
  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक।

1 सार्वजनिक क्षेत्र में बैंक (Public sector में बैंक)

Public (सार्वजनिक) बैंक पूर्ण रूप से भारत सरकार के नियंत्रण (Control) में आते है, इसमें से 50 Percent (%) की हिस्सा भारत सरकार के वित्तीय मंत्रालय को मिलता है।

2 विदेशी बैंक (Vedeshi बैंक)

विदेशी बैंक व्यवशिक बैंक का एक प्रकार है। इनका कार्य दोनों देशों के नियमो का पालन करना होता है। यह बैंक Permanent बैंकिंग Method की Capacity में विकास करते है, इससे कमजोर बैंको को मदद मिलती है।

3 निजी क्षेत्रों में बैंक (Personal Bank)

निजी बैंक की हिस्सेदारी भारत सरकार को ना मिलकर बैंक के शेयर धारकों को मिलती है। भारत में वर्तमान में 21 निजी बैंक मोजूद है।

4 क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (Rural bank)

ग्रामीण (Rural) बैंक विभिन्न राज्यो में क्षेत्रीय स्तर पर संचालित होते है। हर क्षेत्र में ग्रामीण बैंक ज़रूर होता है, आपके राज्य में भी कोई ना कोई ग्रामीण बैंक ज़रूर होगा। यह बैंक कमजोर वर्ग या गरीब लोगो की मदद के लिए होते है।

व्यापारिक बैंकों के फायदे (Commercial bank ke fayde in Hindi)

व्यापारिक बैंक के निम्न फायदे इस प्रकार है:

  • Commercial बैंक में व्यक्ति अपने Paiso को बिना किसी Problem के जमा करवा सकता है।
  • व्यापारिक बैंक ग्राहकों को (Privacy) गोपनीयता प्रदान करता है, और Privacy को बनाए रखने में भी सक्षम है।
  • यह उन व्यवसायों को उचित Interest rate  पर Loan प्रदान करते है, जो loss में चल रहा हो। यह उन्हें उधार पैसे प्रदान कर उन्हें सही रूप से चलाने में मदद करता है।
  • व्यापारिक बैंक हर जरूरतमंद व्यक्ति को Loan प्रदान करता है जिससे वह अपनी Personal problems को पूरा कर सके।
  • यह बैंक अपने Customers को Locker की भी सुविधा प्रदान करते है, ग्राहक अपनी कीमती चीजों, Jewellery को संभाल कर Locker में रख सकते है।

केंद्रीय बैंक और व्यापक बैंक में अंतर? (Kendriya bank aur vyaparik bank mein antar in hindi)

केंद्रीय बैंक और व्यापारिक बैंको के बीच में कई सारे अंतर है जो कि इस प्रकार है।

  • केंद्रीय बैंक पूरी तरह से देश की सरकार के control में होते है, और यह सरकार की कहने पर काम करते है। इसके विपरित व्यापारिक बैंक पर देश की सरकार का Control नहीं होता, इसमें सिर्फ Government का कुछ ही प्रतिशत हिस्सा होता है।
  • Central बैंक का Goal केवल देश की अर्थव्यवस्था को सही बनाना होता है। दूसरी तरफ व्यापारिक बैंक का मुख्य काम केवल खुद का फायदा कमाना होता है।
  • Central बैंक किसी भी देश का अपना बैंक होता है जिसे, देश के नोट छापने का हक होता है। लेकिन व्यापारिक बैंक को ऐसा कोई हक नहीं दिया जाता।
  • व्यापारिक बैंक में देश की जनता आसानी से अपना Account खुलवा सकती है। लेकिन केंद्रीय बैंको में सभी बैंको का Account होता है।
  • जब जनता को Loan की जरूरत होती है, तो व्यापारिक बैंक उन्हें लोन देता है। पर इसका उल्टा जब किसी बैंक में पैसों की कमी होती है central bank उन्हें लोन देता है।

उत्तर:

भारत देश का सबसे बड़ा व्यापारिक बैंक कौन सा है?

देश का सबसे बड़ा व्यापारिक बैंक एसबीआई (State bank of India) बैंक है।

भारत में कितने public sector है?

भारत में वर्तमान में 27 public सेक्टर है।

भारत में कितने Private सेक्टर बैंक हैं?

भारत में अभी 20 Private सेक्टर मोजूद है।

निष्कर्ष।(Conclusion):-

इस Modern समय में Commercial बैंक व्यवसायों को बढ़ावा देने के साथ साथ कई प्रकार के कार्य करता है, जैसे कि Financial सलाह देना, रहन सहन में विकास करना आदि। यह सभी व्यापारिक बैंक भारतीय बैंकिंग के अंदर संचालित किए जाते है। यदि आप भी अपने व्यवसाय से जुड़ी जरूरतों को पूरा करने के लिए उधार पैसे लेना चाहते है तो व्यापारिक बैंक के दरवाजे आपके लिए हमेशा खुले है।आज हमने आपकी इस लेख में Commercial बैंक से जुड़ी जानकारी के बारे में बताया,कि व्यापारिक बैंक क्या है, किस प्रकार कार्य करते है, क्या करते है, साथ ही इसके फायदे क्या है। उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी।

Previous articleSBI:Yono se Statement कैसे निकालें?
Next articleSBI Credit Card band kaise kare? ऐसे करे अपना credit कार्ड बंद
Full-time engineer, Parttime Blogger, Youtuber I do all this to entertain myself. There is nothing else to tell, you will know if you read it.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here