Loan margin money क्या होता है?

0

नमस्कार दोस्तों आज मैं आपको बताऊंगा कि जब भी आप लोन लेने जाते हैं तो बैंक आपको Margin Money के बारे में पूछता है, तो यह Margin Money क्या है और हर लोन में अलग-अलग यह Margin Money कैसे होगी? यह मैं आपको एक एग्जांपल के साथ बताने वाला हूं।

Loan margin money kya Hota hai? :-सबसे पहले आपको यह जानना जरूरी है कि जब भी आप लोन लेने जाते हैं ,किसी भी पर्पस के लिए चाहे घर खरीदने के लिए, मशीनरीखरीदने के लिए, कार खरीदने के लिए कोई भी परपस हो तो बैंक आपको साड़ी कॉस्ट नहीं देती उसमें से 10 या 20 परसेंट आपको लानी होती है,उसे हम Margin Money  कहते हैं।

Margin Money के उदाहरण:-

मान के चलिए कि आप कोई 10 लाख की कार ले रहे हैं  और बैंक के पास ₹10,000,00 लोन लेने जाएंगे तो बैंक आपको  कहेगी की आठ लाख या 8:30 लाख  तक का फाइनेंस हम आपको कर देंगे और बाकी के डेढ़ लाख रुपए आपको खुद देने होंगे बैंक आपको पूरे ₹10,000,00 नहीं देगी। तो यह डेढ़ लाख रुपए जो हो गए वह आपके Margin Money  होंगे।

चाहे कोई भी लोन हो कार लोन हो, होम लोन हो, मशीनरी लोन हो सभी लोन में कुछ न कुछ Margin Money लगता ही है।

Loan margin money kya Hota hai?
Loan margin money kya hota hai?-loankaise.in

ये भी पढ़े :-

1 Car Loan या Vehicle Loan –कार लोन या वाहन लोन
2. Education Loan –शिक्षा loan
3. Business Loan –व्यापार लोन
4. Gold Loan –गोल्ड लोन
5 Personal Loan –वक्तिगत लोन

बैंक कौन-कौन से लोन पर Margin Money लेती है? 

बैंक सभी लोन पर चाहे कोई भी लोन हो उसपर एक मार्जिन मनी लेती है और ये मार्जिन मनी Mandatory होता है,ये लगना ही लगना है चाहे वो होम लोन हो,कार लोन हो,मुद्रा लोन हो कोई भी लोन हो एक Fixed mrgin money के लिए बैंक आपको ज़रूर बोलेगा।

Loan Margin Money कैसे calculate किया जाता है?

Loan Margin Money calculate करने के बारे में बात करें तो ये मनी Totally Depend करता है कि bank आपको कितने प्रतिशत का Margin मनी के लिए बोलती है,अगर माँ के चले की बैंक 10% के लिए आपको बोलती है और आपका लोन अमाउंट दस लाख रुपय है तो आपको एक लाख मार्जिन मनी जमा करने होंगे।

बैंक आपको सिर्फ़ Nine laks ही loan provide करेगी।

1.कार लोन Margin Money (Car Loan Margin Money):-

मान लेते हैं कि आपके कार की Price ₹1000000 हैं, तो आपको कार खरीदने के लिए ₹1000000 की आवश्यकता होगी अब आप बैंक में जाकर कार लोन के लिए अप्लाई करेंगे तो आपको बैंक कार के कुल कीमत का 10 से 20 परसेंट Margin रखकर लोन प्रोवाइड करेगी यानी कि अगर 20% Margin करती है तो आपको आठ लाख तक का लोन मिलेगा और ₹2,000,00 आपको खुद ही कार लेने के लिए कार डीलर के पास या बैंक में जमा करने होंगे।

 यह ₹2,000,00 आपके कार लोन के Margin Money का  हुए।

2.शीक्षा लोन Margin Money (Educational Loan Margin Money):-

दोस्तों कई स्टूडेंट Margin Money को लेकर काफी ज्यादा कंफ्यूज होते हैं तो इसको ऐसे समझते हैं कि अगर किसी स्टूडेंट का 1 साल का फीस ₹1000000 है, और 10 से 20% यहां भी Margin Money लग रहा है तो बैंक केवल ₹800000 ही स्टूडेंट को पढ़ाई के लिए देगी बाकी के ₹200000 स्टूडेंट को खुद ही अपने घर से कॉलेज में जमा कराने होंगे।

 अब मान के चलिए अगर 1000000 का आप डिमांड ड्राफ्ट बनाएंगे अपने कॉलेज की फीस जमा करने के लिए तो बैंक कहेगा कि आप ₹200000 बैंक में जमा खड़ी है और ₹800000 आपको फाइनेंस कर देगा तब जाकर आपको कुल ₹1000000 का डिमांड ड्राफ्ट पढ़ाई के लिए मिलेगा।

3.Mudra Loan Margin Money:-

मान के चलिए आप कोई प्लांट सेटअप कर रहे हैं जिसके  मशीनरी  लगाने का खर्च 10,00,000 रुपए हैं। और इसमें भी बैंक ने अगर आपको 20% Margin के लिए कहा है तो आपको बैंक सिर्फ ₹8,00,000 ही उस मशीन को खरीदने के लिए देगी बाकी के ₹2,00,000 आपको अपने घर से लगाने होंगे। फिर यह दोनों फंड मिला करके आपको वह मशीनरी खरीदनी होगी ।

4. Home Loan Margin Money kya hai?

यहां भी हम उदाहरण के लिए अगर 1000000 का घर खरीद रहे हैं और बैंक में 20 परसेंट Margin Money पूछ रही है तो उस घर को खरीदने के लिए जब हम लोन के लिए अप्लाई करेंगे तो बैंक सिर्फ ₹800000 ही लोन प्रोवाइड करेगी। बाकी का पैसा खुद का लगा कर के उस घर को खरीदना पड़ेगा।

इस तरह से ₹800000 बैंक देगा और ₹200000 आप जब अपने घर से देंगे तब जाकर के घर आप के नाम से रजिस्ट्री होगी।

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है कि मैंने आपके Margin Money को लेकर के सभी तरह के डॉट को क्लियर कर दिया है चाहे वह किसी भी लोन पर लगने वाला Margin Money हो। जैसे होम लोन Margin Money, एजुकेशन लोन Margin Money, मुद्रा लोन Margin Money कोई भी Margin Money हो सभी Margin Money का मतलब एक ही होता है।

कि वह पैसा जो  आप अपने जेब से लगाते हैं वह आपका Margin Money कहलाता है।

Margin Money कितने प्रकार के होते हैं

  • Value At Risk Margin (VaR)
  • Market to Market Margin  (MMM)
  • अतिरिक्त Margin (Additional margin)
  • रखरखाव Margin (Maintenance margin)

Loan Amount और Margin Money में क्या सम्बंध है ?

लोन Amount और Margin Money में संबंध की बात करें तो Margin Money लोन Amount पर ही  पूरी तरह से डिपेंड करता है, उदाहरण के लिए अगर आप ₹1000000 लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो आपको ₹1000000 पर जितने प्रतिशत का Margin लगाना होगा उतना प्रतिशत का Margin लगेगा।

जैसे अगर 10% Margin Amount लगता है तो आपको 10 लाख का 10% यानी ₹100000 Margin Amount देने होंगे आपके ₹900000 ही बैंक लोन के रूप में स्वीकार करेगी।

प्रमुख बैंकों और NBFC द्वारा निर्धारित Margin Money क्या है?

​​fixed Margin Money of Banks and NBFCs

Banks  Minimum Margin Money Requirements  
State Bank Of India (SBI)Global Advantage: 10%Student Loan – INR 4 lakh तक: NILINR 4 lakh से अधिक: 15%
बैंक ओफ़ बरोदा Up to INR 4 lakhs: NIL, Above INR 4 lakhs: 5%
Axis BankUp to INR 4 lakhs: NIL, Above INR 4 lakhs: 15%
ICICI BankUp to INR 20 lakhs: NIL, Above INR 20 lakhs: 15%

लोन Margin Money को बढ़ाया या घटाया जा सकता है या नहीं? 

 लोन Margin Money को बिल्कुल घटाया बढ़ाया जा सकता है आप जितना ज्यादा Margin Money रखेंगे आपका लोन Amount उतना कम होगा मान कर चलिए कि अगर ₹1000000 के लोन पर ₹500000 आप Margin Money रखते हैं तो आपको सिर्फ ₹500000 ही बैंक से लोन लेने होंगे।

 इससे आपको फायदा यह होगा कि आपको ₹500000 ही बैंक को चुकाने होंगे यह आपके लिए काफी आसान होगा तो आप अपने सुविधा के अनुसार Margin Money को बढ़ा या घटा सकते हैं ।लेकिन  Margin Money को बिल्कुल ही जीरो नहीं किया जा सकता है आपको कुछ ना कुछ Margin Money रखना ही होगा।

Margin Money और जमानत (collateral) में अंतर होता है?

Margin Money और जमानत में अंतर की बात करें तो Margin Money बैंक के पास नहीं रहती है लेकिन वही जमानत की बात करें तो यह बैंक के पास गिरवी रखनी पड़ती है और लोन बंद हो जाने के बाद बैंक से वापस कर देती है।

उदाहरण के लिए जैसे हमने ऊपर आपको बताया ₹1000000 के लोन में अगर ₹200000 Margin Money है तो वह Margin Money आपको खुद  ही भरना होता है, और वह Margin Money बैंक अपने पास नहीं रखती है।

 जैसे अगर आप कार लोन लेते हैं तो आपका Margin Money कार कंपनी को चला जाता है, या घर मशीनरी खरीदने के लिए लोन लेते हैं तो आपका Margin Money मशीनरी सप्लायर को चला जाता है।

 कंक्लुजन (निष्कर्ष)

दोस्तों आज हमने सीखा कि Margin Money क्या होता है, Margin Money कितने तरह के होते हैं लोन लेते समय हमें जब बैंक Margin Money के लिए पूछता है तो हमें कितना Margin Money रखना चाहिए, Margin Money और कॉलेटरल में अंतर क्या होता है Margin Money पेमेंट कौन करता है इस तरह के सभी जानकारी हमने इस पोस्ट में लिया है अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ शेयर करिए साथ-साथ अगर आपको Margin Money के रिलेटेड कोई और सवाल हो तो नीचे कमेंट कीजिए मैं उसका रिप्लाई दूंगा धन्यवाद। 

Previous articleRupee On- Personal Loans कैसे मिलेगा?
Next articlePostOffice se Loan kaise Milta hai
Full-time engineer, Parttime Blogger, Youtuber I do all this to entertain myself. There is nothing else to tell, you will know if you read it.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here